कतर से रिहा होकर भारत वापस लौटे पूर्व नौसैनिक




By TusharGupta Posted on: 12/02/2024

कतर में मौत की सजा पाने वाले आठ नौसैनिकों को रिहा कर दिया गया हैं।इनमें से सात (12 फरवरी सोमवार) को भारत लौट आए हैं। ये सभी सैनिक अपनी रिहाई का श्रेय प्रधानमंत्री को दे रहे हैं,और साथ ही उनकी खूब प्रशंसा कर रहे हैं।इन सभी सैनिकों ने दिल्ली हवाई अड्डे पर पहुंचकर भारत माता की जय के नारे लगाए।
 

पीएम मोदी ने हमारी रिहाई के लिए अथक राजनयिक प्रयास किए
भारत वापस आए एक पूर्व नौसेनिक ने कहा कि, यदि पीएम मोदी और भारत सरकार उनकी रिहाई सुनिश्चित करने के लिए  हस्तक्षेप और निरंतर राजनयिक प्रयास नहीं करती तो उन्हें रिहा नहीं किया गया होता। नई दिल्ली से निरंतर राजनयिक हस्तक्षेप और कानूनी सहायता के बाद उनकी मौत की सजा को जेल की सजा में बदल दिया गया।इसके आगे सैनिक ने बताया कि, पीएम मोदी ने कतर के अमीर शेख तमीम बिन हमद अल थानी के सामने उनकी सजा की बात रखी और आठों भारतीयों की रिहाई के लिए अथक राजनयिक प्रयास किए।
 

मैं प्रधानमंत्री का धन्यवाद करता हूं
एक पूर्व नौसैनिक ने कहा कि,आखिरकार सुरक्षित और स्वस्थ घर वापस आकर मुझे राहत और खुशी महसूस हो रही है। मैं प्रधानमंत्री मोदी को धन्यवाद देना चाहता हूं,क्योंकि यह संभव नहीं होता अगर हमारी रिहाई सुनिश्चित करने के लिए उनका व्यक्तिगत हस्तक्षेप नहीं होता। मैं अपना आभार भी व्यक्त करना चाहता हूं। 
 

प्रधानमंत्री ना होते तो हम नहीं छूट पाते
शांत भरे भाव से और अपनी आजादी का जशन मनाते हुए एक नौसैनिक ने कहा कि,पीएम मोदी के हस्तक्षेप के बिना, हम छूट नहीं सकते थे। अगर उनके अथक प्रयास नहीं होते तो हम आज आपके सामने खड़े नहीं होते। हमें आजादी दिलाने के लिए उच्चतम स्तर पर हस्तक्षेप किया गया, जिसके हम आभारी हैं।

हमारे चिंतित परिवार इस दिन का इंतजार कर रहे थे
रिहा हुए एक सैनिक ने कहा कि,"हम, साथ ही घर पर हमारे चिंतित परिवार के सदस्य, लंबे समय से इस दिन का इंतजार कर रहे थे। यह सब इसलिए सफल हुआ क्योंकि पीएम मोदी और इस मामले में उनका व्यक्तिगत हस्तक्षेप था। उन्होंने हमारे मामले को कतर सरकार के उच्चतम स्तर तक उठाया और अंततः हमारी रिहाई सुनिश्चित की।