इस शैक्षणिक सत्र से छात्र कर सकेंगे एक साथ दो डिग्री प्रोग्राम की पढ़ाई


सांकेतिक तस्वीर

सांकेतिक तस्वीर



By Ekagra Gupta Posted on: 01/10/2022

इस शैक्षणिक सत्र से अब छात्र एक साथ दो डिग्री प्रोग्राम की पढ़ाई आराम से कर सकेंगे। यूजीसी की काउंसिल बैठक में दो डिग्री प्रोग्राम, प्रोफेसर ऑफ प्रैक्टिस, पीएचडी व विदेशी छात्रों के लिए अतिरिक्त सीटों पर दाखिले के प्रस्ताव को मंजूरी दी गई थी, जिसके बाद शुक्रवार को यूजीसी ने इससे सम्बंधित गाइडलाइन विश्वविद्यालयों और राज्यों को भेज दी है। इस फैसले से सबसे ज्यादा फ़ायदा छात्रों को दो शैक्षणिक डिग्री हासिल करने की मंजूरी से होगा। बता दें कि यह नियम पीएचडी प्रोग्राम में लागू नहीं होगा। इसी के दृष्टिगत यूजीसी चेयरमैन प्रो. एम जगदीश कुमार ने बताया कि विश्वविद्यालयों से एक साथ दो शैक्षणिक डिग्री हासिल करने वाले छात्रों की सुविधा के लिए वैधानिक बदलाव को कहा गया है। जिसमें उच्च शिक्षण संस्थानों से अपील की गई थी कि वे अपने सांविधिक निकायों के जरिए छात्रों को एक साथ दो शैक्षणिक कार्यक्रमों को आगे बढ़ाने की अनुमति देने के लिए खाका तैयार करें। साथ ही यूजीसी के सचिव प्रो. रजनीश जैन की ओर से पत्र भेजा गया है जिसमें अनुरोध किया गया है कि वे छात्रों के व्यापक हित में उक्त योजना के कार्यान्वयन को सुनिश्चित करें।

क्या है नया नियम?

बता दें कि नए नियम के अंतर्गत छात्र अब फिजिकल मोड से दो पूर्णकालिक शैक्षणिक कार्यक्रमों को एक साथ आगे बढ़ा सकते हैं, लेकिन यह ध्यान रखना होगा कि एक डिग्री प्रोग्राम की पढ़ाई का समय दूसरे डिग्री प्रोग्राम की पढ़ाई और कक्षा को बाधित न कर पाए। बता दें कि एक छात्र को एक साथ दो डिग्री प्राप्त करने की अनुमति देने का उद्देश्य यह है कि हर छात्र की अद्वितीय क्षमताओं को पहचाना जाए और उन्हें बढ़ावा दिया जाए। इसके साथ ही ओपन एंड डिस्टेंस लर्निंग और ऑनलाइन मोड के अंतर्गत डिग्री या डिप्लोमा कार्यक्रमों को केवल उच्च शिक्षण संस्थानों के साथ आगे बढ़ाया जाएगा।