Adhoya, Kashi, Mathura पर गोविंद देव गिरी महाराज ने दिया बयान




By Tushar Gupta Posted on: 05/02/2024

अयोध्या में राम मंदिर बनने के बाद वाराणसी में ज्ञानवापी और मथुरा में श्री कृष्ण जन्म भूमि को लेकर अब हिंदूओं की मांग तेज हो गई हैं। हालांकि,ज्ञानवापी में एएसआई सर्वे के बाद कोर्ट ने व्यास जी के तहखाने में पूजा का अदेश दे दिया है।जिसको हिंदू पक्ष की बड़ी जीत माना जा रहा है।अब इस बीच राम जन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र के कोषाध्यक्ष ने एक बयान देकर कहा कि, अयोध्या के बाद काशी और मथुरा के धार्मिक स्थलों का शांति से मिल जाने के बाद हम लोग किसी अन्य सभी मंदिरों से संबंधित मुद्दों को छोड़ देंगे।

पूणे के कार्यक्रम के दौरान कही कई बातें

पूणे के अलंदी में एक धार्मिक कार्यक्रम आयोजित किया गया था। जिसमें गोविंद देव गिरी महाराज  पहुंचे थे। कार्यक्रम खत्म होने के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने कहा मैंने पहले ही बता दिया है कि तीन मंदिर शांति से मिल जाने के बाद हम अन्य मंदिरों पर ध्यान देने की इच्छा भी नहीं करते हैं, क्योंकि हम लोगों को भविष्य में जीना है. भूतकाल में नहीं जीना है।भारत का भविष्य अच्छा होना चाहिए तो इसलिए यदि समझदारी के साथ (Adhoya, Kashi, Mathura) हमें प्रेम से दे दिये जाते हैं, तो फिर हम बाकी सारी बातों को भूल जाएंगे। उन लोगों को भी प्यार से समझाएंगे. देखो इन सभी जगहों के लिए एक बात नहीं बोली जा सकती। कहीं-कहीं अक्लमंद लोग होते हैं, कहीं-कहीं अक्लमंद लोग नहीं होते हैं। जहां जैसी स्थिति है वहां उसी प्रकार से लोगों को समझाने की कोशिश करें. हम किसी भी तरह देश में शांति नहीं होने देंगे।

 कार्यक्रम में मोहन भागवत भी मौजूद

इस कार्यक्रम में आरएसएस के प्रमुख मोहन भागवत और श्री श्री रविशंकर भी मौजूद थे। आपको बता दें गोविंद देव गिरी महाराज अपने 75 वें जन्मदिन के अवसर पर 4 से 11 फरवरी तक अलग-अलग स्थलों पर आयोजित धार्मिक कार्यक्रम में सम्मलित होंगे।