भारत के 4 अस्पताल जहाँ होता है हर बिमारी का इलाज


हर बिमारी का इलाज

हर बिमारी का इलाज



By Nikita Mishra Posted on: 22/10/2022

भारत एक ऐसा देश है जो पुरे विश्व में जनसँख्या स्तर दूसरे नंबर पर आता है ,इतनी आबादी वाले देश में  लगातार जनसँख्या बढ़ने के साथ साथ बीमारियों का बढ़ना तो जायज़  है। इसी के साथ बीमारियों को देखते हुए बीमारी के लिए अच्छी सुविधाओं वाले अस्पतालों की भी बढ़ौतरी होनी चाहिए। लेकिन 11 मार्च 2011  की रिपोर्ट के अनुसार देश में कुल 11,933 सरकारी अस्पताल मौजूद थे। आपको बता दे की हर साल देश में कैंसर की वजह से लाखो लोगो की मौत होती है। या तो परिवं की कमी से या फिर अस्पताल में कैंसर का उपचार न होने की कमी से। जिनकी वजह से कई मरीज तो घर पर ही दम तोड़ देते है। लेकिन हम आपको बताएँगे की कई ऐसे अस्पताल भारत में मौजूद है ,जहां पर मुश्किल से मुश्किल बिमारी का इलाज होता। 

1 AIIMS

दिल्ली में स्तिथ एम्स अस्पताल भारत के सबसे बड़े अस्पतालों में से एक माना जाता है। यूँ कहे तो ये अस्पताल भारत का नंबर 1 अस्पताल है। इस अस्पताल का निर्माण आज़ादी के बाद लोगो के स्वास्थय  की चिंता करते हुए भारत के पहले प्रधान मंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू के द्वारा शुरू कर दिया गया था। इस अस्पताल में कैंसर जैसी बड़ी बिमारी का इलाज अब शुरू कर दिया गया है साथ ही इस अस्पताल में कई सुविधाएं भी शामिल है , इस हॉस्पिटल में OPD से लेकर इमरजेंसी की सभी सुविधाएं 24  घंटो होती है इस अस्पताल में देश के कोने कोने से लोग आते है। 

2  मेदांता दी मेडिसिटी 
 यह अस्पताल गुरुग्राम में स्तिथ है और इस अस्पताल में तकरीबन 1,250बीएड मौजूद है।  जब सभी अस्पतालों से व्यक्ति इलाज करवा कर हार जाता है इस अस्पताल का नाम बेस्ट हॉस्पिटलों की  लिस्ट सबसे पहले आता है। इस अस्पताल में बड़ी से बड़ी बिमारी का इलाज है। 

3 क्रिश्चियन मेडिकल कॉलेज

यह अस्पताल तमिलनाडु के वेल्लूर में स्तिथ है। आपको बता दे की इस  अस्पताल में 2,297 बेड मौजूद है। और ये हॉस्पिटल  मेन्टल हेल्थ के लिए मशहूर है। इस अस्पताल में दिमाग और न्यूरो के लिए इलाज किया जाता है। 

4 अपोलो हॉस्पिटल

चेन्नई में स्तिथ अपोलो हॉस्पिटल अपनी सुविधाओं और इलाजो के लिए बेहद प्रसिद्ध है। इस अस्पताल में  606 बीएड मौजूद है। यह अस्पताल इसीलिए प्रसिद्ध है क्योकी इस अस्पताल  में पहली बार हादी साथ ही कई अंगो की ट्रांसप्लांटेशन को किया गया था।